Welcome to, "Kishorilal Gandhi Memprial Inter College"

About Kishorilal Gandhi Memprial Inter College

विद्यालय की स्थापना 1918 में एक छोटी सी पाठशाला के रूप में हुई, जिसे महाजनी पाठशाला के नाम से जाना जाता था 1948 में शिक्षा विभाग द्वारा गाँधी स्मारक जूनियर हाई स्कूल को मान्यता प्राप्त हुई A उस समय संस्था के पास पर्याप्य भवन नहीं था A

श्री जय प्रकाश अग्रवाल जी द्वारा 1952 में वर्तमान विद्यालय भवन का निर्माण कराया गया]जिसमे लगभग उस समय की एक बहुत बड़ी धनराशि डेढ़ लाख रूपये खर्च हुई जो विद्यालय के इतिहास मे एक महत्वपूर्ण घटना थी और इसी समय से विद्यालय का नाम लाला किशोरी लाल जी के नाम पर **किशोरी लाल गाँधी मेमोरियल इण्टर कॉलेज** पड़ा  विद्यालय के दुर्भाग्य से 30 अप्रैल 1954 को एक दुर्घटना में श्री जय प्रकाश अग्रवाल जी  का आकस्मिक निधन हो गया जिससे विद्यालय की प्रगति को ठेस पहुंचीA1952 में विद्यालय को हाई स्कूल की मान्यता प्राप्त हुई  विद्यालय भवन का उद्घाटन 23 -10-1953 को तत्कालीन शिक्षा निदेशक भैरव नाथझा ने किया A  1955 में इण्टर को मान्यता मिली तथा विद्यालय में इण्टर कक्षाओं में हिंदी]अंग्रेजी ]गणित ]भारतीय इतिहास ]भूगोल ]अर्थशास्त्र ]संस्कृत ]मनोविज्ञान]कला]नागरिकशास्त्र व तर्कशास्त्र विषय का विधिवत अध्यापन कार्य शुरू हुआA

विद्यालय में वैज्ञानिक वर्ग को मान्यता 1992 में तथा वाणिज्य वर्ग को  2005  मे ,व्यवसायिक शिक्षा की मान्यता 1997 कोई, राष्ट्रीय सेवा योजना  और भारत स्काउट गाइड की शाखा 1998 कोई ,नेशनल कैडेट कोर की इकाई की स्थापना 2010 मे हुई।

आज विद्यालय में ऐसी कोई विधा नहीं है जिसे पढ़ाया ना जाता हो छात्र-छात्राओं को सभी विषयों को अच्छी तरह पढ़ाया जाता है तथा सभी सुविधाएं प्राप्त इस।

 विद्यालय में 58 कमरों का विशाल भवन इस, तथा 6 बीघे में फैला खेल का मैदान है ,साथ ही 25 केवीए का जनरेटर एवं 15 केवीए का सोलर प्लांट भी मौजूद है ।

सभी छात्र छात्राओं के लिए पेयजल हेतु वाटर कूलर भी लगा हुआ इस, गत वर्षों में विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने न सिर्फ खेल  कूद मे वरन विज्ञान ,एनसीसी आदि सभी क्षेत्रों में विद्यालय को एक नई पहचान दी है ।गतर्षों में विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों से लाखों रुपए की छात्रवृत्ति भी प्राप्त की है।